By : BoldSky Video Team
Published : October 11, 2021, 05:10
Duration : 01:51

जमीन पर बैठकर खाने से क्या होता है ?

आजकल लोग डायनिंग टेबल, बेड या कुर्सी पर बैठकर भोजन करना पसंद करते हैं लेकिन पहले के समय में लोग जमीन पर बैठकर भोजन किया करते थे। आयुर्वेद की मानें तो जमीन पर बैठकर भोजन करने से कई प्रकार के रोग दूर रहते हैं। शोध भी कहता है कि लोगों को 90% बीमारियां गलत पोजीशन में बैठकर खाने से होती हैं। एक्सपर्ट की मानें तो जमीन पर बैठकर भोजन करना सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद है। दरअसल, सुखासन या क्रॉस-लेग्ड (आलती-पालती मारकर बैठना) सीटेड पोज़ में भोजन करना बहुत अच्छा होता है क्योंकि इससे भोजन जल्दी पचता है और पोषक तत्व भी बेहतर ढंग से अवशोषित होते हैं। साथ ही इस पोजीशन में भोजन करने से चयापचय को भी बढ़ावा मिलता है। वहीं, सेहत के लिए सुखासन एक गेम चेंजर है क्योंकि इस मुद्रा में भोजन करने से आप कम खाते, जिससे आप कैलोरी ज्यादा नहीं लेते। ध्यान रखें कि फर्श पर बैठकर भोजन करते समय हर दिन पैर का क्रॉस बदलें। . पीठ दर्द, घुटने या गठिया दर्द, स्लिप डिस्क, रीढ़ की हड्डी की समस्या और साइटिका से जूझ रहे हैं तो सुखासन का विकल्प ना चुनें। वहीं, अगर आप फर्श पर नहीं बैठ सकते तो सरल सिद्धासन स्थिति में बैठ जाएं। . हालांकि जरूरी नहीं कि आप 3 बड़े भोजन जमीन पर बैठकर लें। आप दिन का एक भोजन नियमित रूप से इस मुद्रा में लें। इससे भी शरीर को कई फायदे मिलेंगे। कोशिश करें कि आप डिनर सुखासन मुद्रा में बैठकर करें।
 
Get Instant News Updates
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X