By : BoldSky Video Team
Published : December 01, 2021, 06:30
Duration : 01:39

शरीर पर दिखे 7 लक्षण एड्स का संकेत, कैसे करें बचाव ?

एड्स एक लाइलाज बीमारी है. इस बीमारी से बचाव के लिए जागरूकता ही एकमात्र उपाय है. इसलिए एड्स के लक्षण, कारक और बचाव के तरीके पता होना बहुत जरूरी है. डॉक्टर्स कहते हैं कि एचआईवी संक्रमित व्यक्ति अगर हेल्दी लाइफस्टाइल और डाइट फॉलो करे तो उसका जीवन सामान्य हो सकता है. एचआईवी पॉजिटिव असुरक्षित शारीरिक संबंध बनाने से होता है. मरीज के शरीर में इस्तेमाल किए हुए इंजेक्शन को दूसरे व्यक्ति के लिए इस्तेमाल करने से भी यह बीमारी हो सकती है. पीड़ित व्यक्ति का ब्लड किसी दूसरे व्यक्ति को चढ़ाने से एचआईवी वायरस फैलता है. एचआईवी संक्रमित गर्भवती महिला के शरीर से गर्भ में पल रहे शिशु के शरीर में भी वायरस ट्रांसमिट हो सकता है. एड्स के शुरुआती दिनों में किसी तरह के लक्षण सामने नहीं आते हैं. व्यक्ति बिल्कुल साधारण दिनों की तरह सेहतमंद रहता है. कुछ साल बाद ही इसके लक्षण सामने आते हैं. बुखार, थकावट, सूखी खांसी, वजन घटना, स्किन, मुंह, आंख या नाक के पास धब्बे पड़ना, समय के साथ कमजोर याददाश्त और शरीर में दर्द की शिकायत इस बीमारी के प्रमुख लक्षण हैं. गले में खराश या ग्रंथियों में सूजन को इग्नोर करना भी आपको मुश्किल में डाल सकता है. स्किन पर रैशेज और मांसपेशियों में दर्द एचआईवी संक्रमित होने के लक्षण हो सकते हैं. गले की नली, मुंह या गुप्तांग में घाव एचआईवी संक्रमण की निशानी है. डॉक्टर्स कहते हैं कि एड्स के मरीजों को रात में पसीना आने की शिकायत हो सकती है. पेट खराब या डायरिया जैसी दिक्कतों को नजरअंदाज करना भी गलत है.
Follow BoldSky On
 
Get Instant News Updates
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X